is it possiable .

when we write in mobile , laptop which is connect the internet and every word store in server. suppose !  after long time server leaked. every word work his potatincial energy.

what is the situation of world.

word is world.

you like this type movie or real.

एक बच्चा ।

एक बच्चा जो उस वक़्त सिर्फ 7 साल का था। उसे उसके माता पिता ने एक उस वक़्त की सबसे अच्छी स्कूल में भेजा था ।

वो स्कूल उस वक़्त की सबसे अच्छी स्कूल थी। वंहा सब कुछ अच्छा पढाया जाता था ।

कहा जाता बच्चों ये आपके आदर्श हैं ।

नेहरू

गाँधी
गाँधी

गाँधी

जिन्ना 
और आज सोशल मीडिया में देखता हूँ । वो सब गुनाह कर के बैठै थे ।

बस अब लगता है की सब बस एक शब्दों का खेल है ।

सच क्या है । बस तलाश में घूम रहा हूँ ।

मोदी विरोधी क्यों।  मेक इन इंडिया

आज सोच रहा था । मेरे ब्लॉग को देख के मैं मोदी जी विरोधी लगता हूँ।
लेकिन मेरी समझ में ये नहीं आया कि मोदी जी डरा रहे हैं या देश को बचा रहे हैं ।

शब्द इस प्रकार हैं ।

एक तरफ तो चायना और पाक ।

पहला देश सबसे मजबूत और दूसरा देश टुकड़ों में पलने वाला।

मगर हम अपनी सिक्योरिटी को पब्लिक मीडिया में क्यों दिखा रहे हैं ।

आर्मी के एक लौ ( कानून ) के अनुसार आप ये सब नहीं कर सकते ।

आज दो पाकी मारे गए ।

आज टैंक ।

आज मेक इन इंडिया ।

चाइनीस फ़ूड विस्तार। 

आज से 12 -13 साल पहले चाइनीज़ फ़ूड के रेस्तरां कुछ सिलेक्टेड जगह पर होते थे । मगर अब 2016 में यह फ़ूड बहुत ज्यादा बढ़ गया है । इतना की जिस गांव की संख्या 100 है । वंहा भी 1- 2 रेस्तरां मिल जायेंगे । यह फ़ूड बहुत तेजी से बढ़ रहा है । 

क्या होगा ।

और कब ।

क्या प्रधानमंत्री जी औधोगिक क्रांति को बढ़ावा दे रहे हैं ।

एक सवाल बार बार आता है मन में । जिस प्रकार प्रधानमंत्री जी मेक इन इंडिया, डिजिटल क्रांति , विदेश टूर कर रहे हैं । और विकाश भी उतना तेजी से हो रहा है। क्या इस से भारत की जनता पर इसका क्या असर होगा आने वाले समय में।

क्या बेरोजगारी बढ़ेगी ।

क्या फिर से औधोगिक क्रांति आएगी।

क्योंकि औधगिक क्रान्ति के जन्म के समय भी मशीन बाहर से मंगवा कर यंहा पर लगाई गई थी । जिसके फल स्वरुप औधोगिक क्रांति का जन्म हुआ था ।

उस वक़्त भी बहुत से बुद्धि जीवी लोगों ने व्यापारीयों को मुनाफा देने के लिए बहुत कुछ कहा था । यंहा की जनता के लिए ।

हमे इतिहास नहीं भूलना चाहये । वह औधोगिक क्रांति हो या एक विकसित सभय्ता ।

यह एक पूल है । इसके बारे में कोई कमेंट दे । 

नेता बनकर अपने कर्मो का प्रायश्चित करैं ।

​जब कोई गुंडा समाज में ज्यादा गुंडागर्दी करने लगता है ।

तो समाज उसे नेता बना कर उस से सबको नमस्कार करवाकर उसके कर्मो का प्रायश्चित करवाता है ।