is it possiable . differance between word and wwworld.

when we write in mobile , laptop which is connect the internet and every word store in server. suppose !  after long time server leaked. every word work his potatincial energy.

what is the situation of world.

word is world.

you like this type movie or real.

Advertisements

is it possiable .

when we write in mobile , laptop which is connect the internet and every word store in server. suppose !  after long time server leaked. every word work his potatincial energy.

what is the situation of world.

word is world.

you like this type movie or real.

एक बच्चा ।

एक बच्चा जो उस वक़्त सिर्फ 7 साल का था। उसे उसके माता पिता ने एक उस वक़्त की सबसे अच्छी स्कूल में भेजा था ।

वो स्कूल उस वक़्त की सबसे अच्छी स्कूल थी। वंहा सब कुछ अच्छा पढाया जाता था ।

कहा जाता बच्चों ये आपके आदर्श हैं ।

नेहरू

गाँधी
गाँधी

गाँधी

जिन्ना 
और आज सोशल मीडिया में देखता हूँ । वो सब गुनाह कर के बैठै थे ।

बस अब लगता है की सब बस एक शब्दों का खेल है ।

सच क्या है । बस तलाश में घूम रहा हूँ ।

मोदी विरोधी क्यों।  मेक इन इंडिया

आज सोच रहा था । मेरे ब्लॉग को देख के मैं मोदी जी विरोधी लगता हूँ।
लेकिन मेरी समझ में ये नहीं आया कि मोदी जी डरा रहे हैं या देश को बचा रहे हैं ।

शब्द इस प्रकार हैं ।

एक तरफ तो चायना और पाक ।

पहला देश सबसे मजबूत और दूसरा देश टुकड़ों में पलने वाला।

मगर हम अपनी सिक्योरिटी को पब्लिक मीडिया में क्यों दिखा रहे हैं ।

आर्मी के एक लौ ( कानून ) के अनुसार आप ये सब नहीं कर सकते ।

आज दो पाकी मारे गए ।

आज टैंक ।

आज मेक इन इंडिया ।

चाइनीस फ़ूड विस्तार। 

आज से 12 -13 साल पहले चाइनीज़ फ़ूड के रेस्तरां कुछ सिलेक्टेड जगह पर होते थे । मगर अब 2016 में यह फ़ूड बहुत ज्यादा बढ़ गया है । इतना की जिस गांव की संख्या 100 है । वंहा भी 1- 2 रेस्तरां मिल जायेंगे । यह फ़ूड बहुत तेजी से बढ़ रहा है । 

क्या होगा ।

और कब ।

क्या प्रधानमंत्री जी औधोगिक क्रांति को बढ़ावा दे रहे हैं ।

एक सवाल बार बार आता है मन में । जिस प्रकार प्रधानमंत्री जी मेक इन इंडिया, डिजिटल क्रांति , विदेश टूर कर रहे हैं । और विकाश भी उतना तेजी से हो रहा है। क्या इस से भारत की जनता पर इसका क्या असर होगा आने वाले समय में।

क्या बेरोजगारी बढ़ेगी ।

क्या फिर से औधोगिक क्रांति आएगी।

क्योंकि औधगिक क्रान्ति के जन्म के समय भी मशीन बाहर से मंगवा कर यंहा पर लगाई गई थी । जिसके फल स्वरुप औधोगिक क्रांति का जन्म हुआ था ।

उस वक़्त भी बहुत से बुद्धि जीवी लोगों ने व्यापारीयों को मुनाफा देने के लिए बहुत कुछ कहा था । यंहा की जनता के लिए ।

हमे इतिहास नहीं भूलना चाहये । वह औधोगिक क्रांति हो या एक विकसित सभय्ता ।

यह एक पूल है । इसके बारे में कोई कमेंट दे । 

नेता बनकर अपने कर्मो का प्रायश्चित करैं ।

​जब कोई गुंडा समाज में ज्यादा गुंडागर्दी करने लगता है ।

तो समाज उसे नेता बना कर उस से सबको नमस्कार करवाकर उसके कर्मो का प्रायश्चित करवाता है ।