क्राउड फंडिंग एक ऐसा जरिया । बिना लोन के अपने सपने पूरे करो ।

दोस्तों ,

अगर आप के पास कोई धांशू आईडिया है और कोई आपको कंही से कुछ भी सहायता नही मिल रही है ।

तो आपको क्राउड फंडिंग की मदद से आप पैसा मिल सकता है । इस के लिए आपको क्राउड फंडिंग की बहुत से वेबसाइट मिल जाएंगी । जंहा से आप क्राउड फण्ड कर सकते हैं ।

बस आपको सिर्फ अपना प्रोजेक्ट वेबसाइट पर अपलोड करना होगा । इंटरनेट के माध्यम से आपको बहुत सा रुपया मिल जाएगा ।
यदि आपको मेरा ब्लॉग अच्छा लगे तो प्लीज मुझे फोलो करें ।

Advertisements

फेसबुक पर ऑटोलाइक का इस्तेमाल न करें।

यदि आप से कोई भी ऑनलाइन मार्केटर यह कहे कि मैं पैसों से आपके लाइक बढ़ा दूंगा । तो आप ऐसा न करें ।

या फिर किसी वेबसाइट पर जा कर आप कोई autoliker का इस्तमाल न करें ।

Autoliker का इस्तेमाल करने पर आप अपनी पेज की authkrity उस liker को दे देते हैं । इसका साफ मतलब होता है । कि आप उसे अपना फेसबुक एकाउंट उस के हवाले कर देते हैं ।

इस से आप के एकाउंट की सुरक्षा दूसरे के हाथ में चली जाती है ।

इस से बच कर रहें । और सिर्फ फेसबुक ही अपने आप ही आपको ये ऑप्शन देता है । और कुछ पैसा चार्ज करता है।  

आज की मेरी यही सलाह है ।

सिबिल क्या है । सिबिल.कॉम

सिबिल एक ऐसी वेबसाइट है । जिसमे सभी बैंक अपना डेटा शेयर करते हैं । जिससे कोई भी  बैंक आपके लोन की क्रेडिट हिस्ट्री पता करसकता है ।

यदि अपने किसी भी बैंक से लोन लिया है । तो यह वेबसाइट आपकी सारी लोन हिस्ट्री बता देगा ।

यंहा तक कि आप यदि किसी लोन में गारंटर भी बने हो। 

यदि आपका सिविल सही नही है तो आपको कोई बैंक लोन नही देगा ।

आम तौर पर सिबिल आपकी क्रेडिट हिस्ट्री पर एक क्रेडिट स्कोर बनाता है । जो एक मानक के अनुसार बैंक आपको उस कैटेगरी में रखता है कि आपको लोन देना है या नही ।

आम तोर पर सिबिल 700 से अधिक का स्कोर अच्छा माना जाता है । पर इस से नीचे का सिबिल सही नही होता है ।

आपको बैंक लोन देने से मना कर सकता है ।

यदि आप का सिबिल सही नही है तो मैं अपने अगले ब्लॉग में आपको बताऊंगा की सिविल कैसे ठीक कर सकते हैं । 

अब वेबसाइट बनाना बहुत आसान है।

मैंने वेब डिज़ाइन की बहुत सी लैंग्वेज पढ़ी ।

सोचता था कि वेबसाइट बनाना बड़ी टेढ़ी खीर है ।कुछ दिन से वेब साइट में एक सॉफ्टवेयर की मदद से बनाना सीख रहा हूँ ।

अब तक मैंने सभी तरह की वेबसाइट और पोर्टल बनाना सीख लिया है ।

में धन्यवाद देना चाहता हूँ । वर्डप्रेस और उनकी टीम का जिसने मुझे इतने कम समय में इतना कुछ सीखा दिया ।
आभार 

वर्डप्रेस और उनकी टीम का ।

धन्यवाद

new option in whatsapp

दोस्तों व्हाट्स ऐप्प में रिप्लाई का भी एक ऑप्शन होता है । प्लीज किसी मैसेज को फारवर्ड करने से पहले उसे रिप्लाई करना जरूरी होता है।

इसी ऑप्शन का फायदा उठा कर पोलिटिकल पार्टी अपना काम निकलने में एक्सपर्ट होते है।
इसी का फायदा उठा कर धार्मिक लोग अपना पोस्ट शेयर करते हैं ।
आपके इस छोटे से काम से हम भारतीयों की लेंडी तर हो रही है। 
कोई भी कुछ कह दे हम मान लेते हैं ।😔😔😔😔

जब जब कभी बी जे पी के भाषण सुनने जाता हूँ । तो सिर्फ ताली ही मिलती है । पर अब सोचता हूँ ताली का भी एक पैटर्न होना चाइये। 

पहली बार ताली बजाने पर लाइक और दूसरी बार बजाने पर डिसलाइक होना चाइये। 
फिर देखते हैं कितनी दिन चलती है ये सरकार 😣😋😋😋

दुनिया को बचाने का अंतिम तरीका

जिस तरह से दुनिया भागी जा रही है . इसे बचने का अंतिम तरीका क्या हो सकता है. ज्ञान इतना बढ़ रहा है. कि मनुष्य पैदा होगा और सिर्फ ज्ञान ही लेता रहेगा और ज्ञान  बढ़ता चला  जायेगा.

अब इसका क्या असर हो रहा है. यह देखने के लिए हम एक जीवन देखते हैं.

एक मेट्रो शहर मैं रहने वाला एक व्यक्ति सुबह ८ बजे उठकर ऑफिस जाता है. ऑफिस मैं टेंशन भरी लाइफ जीता है. इस के साथ उसे अपने जीवन में नौकरी करने के लिए रोज़ एक नयी बात सीखनी पड़ती है.

कोई पेन ड्राइव बनी पड़ेगी जो कि सारा सब्जेक्ट उसके दिमाग मैं फिट करते ही सारा नॉलेज उसके दिमाग मैं चला जाए.

और एक मोबाइल और सिम कार्ड भी फिट करना होगा. समय नहीं है उसके पास कि इतना सब कैर्री करना पड़े.

 

सम्पति क्या है .

मैंने रबोर्ट टी कियोसकी की बुक पढ़ी जिससे पता चला सम्पति क्या है. इस का कैसे उपयोग करैं. इस किताब मैं बहुत अच्छे से बताया गया है की अपने पैसे का कैसे उपयोग करें.

 

इस किताब का नाम है पूर डैड रिच डैड जो आपको आसानी से हिंदी और अंग्रेजी मैं अमेज़न और फ्लिप्कार्ट मैं मिल जाएगी.  दाम है १७० रूपये. एक बार ये बुक जरूर पढना.

किस तरह रोबर्ट ने अपने दो बाप बनाये और उनसे प्रेरणा ली और दोनों बाप ने उन्हें क्या सिखाया.

भाषा और मौन की परिभाषा.

भाषा क्या है.

इसे मैं आपको कुछ एस प्रकार समझाता हूँ. जैसे सामने कोई जापानीस आ जाये और वो कुछ बोलने लगे तो हम नहीं समझ सकते हैं. जिस प्रकार अगर कोई हिंदी बोलने वाला हमारे पास आ जाये  हमे समझ आता है. इसे भाषा कहते हैं.

अब मैं आपको अपने शब्दों मैं मौन का अर्थ बताता हूँ.

समझ लो हमारा दिमाग एक कंप्यूटर है. और एक कंप्यूटर सिर्फ जीरो और वन की भाषा समझता है. ऐसे ही कंप्यूटर मैं दो प्रकार की लैंग्वेज होती है. high लेवल प्रोग्रामिंग और लो लेवल प्रोग्रामिंग. ये दोनों प्रोग्रामिंग ही हमे स्क्रीन पर आउटपुट बताता है.

लो  लेवल प्रोग्रामिंग वो भाषा है जिसे हम आम बातचीत मैं इस्तेमाल करते हैं. और हाई लेवल पोर्ग्रम्मिंग वो भाषा है. जिसे हम समझते हैं. और अपने दिमाग को सही और गलत का फैसला लेने के लिए छोड़ देते है. दिमाग उसे समझता है और हमे सही और गलत का फैसला देता है.

अगर हम मों रहते हैं. तो दिमाग उसे अच्छे से समझ सकता है. इसलिए एक शिक्षक अपनी कक्षा मैं मौन रहने को कहता है. ताकि मन उसे अच्छे से समझ सके.

आगे मैं अपने ब्लॉग मैं कुछ नया लिखूंगा एस सम्बन्ध मे.

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,
कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर।

अर्थ :
कोई व्यक्ति लम्बे समय तक हाथ में लेकर मोती की माला तो घुमाता है, पर उसके मन का भाव नहीं बदलता, उसके मन की हलचल शांत नहीं होती. कबीर की ऐसे व्यक्ति को सलाह है कि हाथ की इस माला को फेरना छोड़ कर मन के मोतियों को बदलो या फेरो.
Shared From App : https://play.google.com/store/apps/details?id=in.ajaykhatri.doheandshloka